Phir Kabhi Lyrics & HD Video – Arijit Singh, MS Dhoni

Phir Kabhi Lyrics & HD Video – Arijit Singh, MS Dhoni :- Amaal Mallik is the music composer of this song and this song is from the movie  MS Dhoni and this song is produced under the banner of T-Series.

Singer: Arijit Singh
Music Director : Amaal Mallik
Lyrics: Manoj Muntashir
Music Label: T-Series

Check more songs @ LyricsMB.com

Phir Kabhi HD Video – Arijit Singh, MS Dhoni

 

Yeh lamha jo thehra hai,
Mera hai yeh tera hai,
Yeh lamha main jee loon zara,

Tujhmein khoya rahun main,
Mujhmein khoyi rahe tu,
Khud ko dhoond lenge phir kabhi,

Tujhse milta rahun main,
Mujhse milti rahe tu,
Khud se hum milenge phir kabhi,
Haan..phir kabhi,

Kyun bewajah gungunaye,
Kyun bewajah muskuraye,
Palkein chamakne lagi hain,
Ab khaab kaise chupayein,

Behki si baatein kar le,
Has has ke ankhein bhar le,
Yeh behoshiyan phir kahan,

Tujhmein khoya rahun main,
Mujhmein khoyi rahe tu,
Khud ko dhoond lenge phir kabhi,

Tujhse milta rahun main,
Mujhse milti rahe tu,
Khud se hum milenge phir kabhi,
Haan..phir kabhi..,

Dil pe taras aa raha hai,
Pagal kahin ho na jaye,
Woh bhi main sun-ne laga hoon,
Jo tu kabhi keh na paye,

Yeh subha phir aayegi,
Yeh shamein phir aayengi,
Yeh nazadeeyan phir kahan,

Tujhmein khoya rahun main,
Mujhmein khoyi rahe tu,
Khud ko dhoond lenge phir kabhi,

Tujhse milta rahun main,
Mujhse milti rahe tu,
Khud se hum milenge phir kabhi,
Haan..phir kabhi,

(Haan phir kabhi),

Hindi Translation

क्षण है कि ठहरा है
यह मेरा तेरा है,
पल मैं रहते Zra लुन,

जीते मैं तुमको खो दिया है,
तुम मुझे याद आ रहे हैं,
फिर कभी खुद को Dund होगा,

रहते हैं मैं आप को मिल जाएगा,
वहाँ आप मुझे मिल जाएगा,
हम अपने आप को फिर से मिलेंगे,
Haan..phir Kabhi,

बेकार में क्यों Gungunaie,
क्यों बेकार में मुस्कान
चमकना पलकें हैं
अब कैसे खाब मिटायें

बिना मार्गदर्शन ले बातें,
हस हस आँखों पर ले लिया है,
Behoshian जहां इसे फिर से,

जीते मैं तुमको खो दिया है,
तुम मुझे याद आ रहे हैं,
फिर कभी खुद को Dund होगा,

रहते हैं मैं आप को मिल जाएगा,
वहाँ आप मुझे मिल जाएगा,
हम अपने आप को फिर से मिलेंगे,
Haan..phir Kabhi ..,

दिल पर आने वाले लालसा,
पागल कहीं नहीं होना चाहिए,
मैंने सुना है कि वह करने के लिए शुरू कर रहा हूँ,
यही कारण है कि तू कहेगा,

सुबह फिर से आ जाएगा,
शाम को फिर से आना होगा,
Nzdiyn जहां इसे फिर से,

जीते मैं तुमको खो दिया है,
तुम मुझे याद आ रहे हैं,
फिर कभी खुद को Dund होगा,

रहते हैं मैं आप को मिल जाएगा,
वहाँ आप मुझे मिल जाएगा,
हम अपने आप को फिर से मिलेंगे,
Haan..phir Kabhi,

(हां फिर से)

Manoj Muntashir is the writer of the song Phir Kabhi and this song is sung by Arijit Singh. Music of this song is composed by Amaal Mallik.

Comments

comments